क्या जज साहब की हिम्मत है इस महिला को दण्ड देने की ?

image

जहां पिता द्वारा बालिग़ लड़की को अपनी मर्जी से शादी करने से रोकना गलत । अगर शादी कर ली तो उसके पति पर फर्जी मुकदमा करना भी गलत । और सुप्रीम कोर्ट में चप्पल बाजी उन सबसे गलत ।

सवाल सिर्फ इतना है की पिता – पुत्री की उठा -पटक में बेचारा पति क्यों पिसे ? जेल जाए ? मुकदमा लड़े ? पुलिस में और अदालतों में रुपया खर्च करे ?

जज साहब, क्या इसकी सजा नहीं मिलनी चाहिए ? है आपमें वो दम जो इस बेबस पुरुष को न्याया दिला सके ?

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s