Author: Gender Justice

A humble effort to highlight gender discrimination and gender specific crime against men. There's a lot of it going on everywhere at school, workplace, society and in families too. It's perpetuated by state and judiciary, tacitly supported by society and mocked by all. The bottom-line that MEN DO FEEL THE PAIN, largely goes unheard. This is an attempt to give voice to that pain in men.

Write on Men’s Issues

We welcome guest writers to write on Men’s issues. Should you want to share your thought on any dimension of men’s space this is your opportunity to get heard.

Some suggested areas can be :

  1. Discrimination against men and boys : This can range from discrimination within the family, society, folklore, official system, law, policy making and judicial system.
  2. Pre-conceived notions about men and boys : Society carries a large number of pre-conceived negative notions on men which portray men in negative light and are damaging in the long run.
  3. Victimization & ostracization of male : At the hands of the government and society. Due to the social thought & policy making being skewed in favour of the females, the men are being systematically denied their dues. It would be appreciated if the  unrest caused in men could be documented.
  4. The making of a Men’s Rights Activist (MRA) : You could share your story of becoming an MRA. Your initiation, your journey and even the challenges you faced as an MRA. Obviously #SpeakUpMen
  5.  The good work : You can also share any worthwhile contribution for furthering  the cause of men’s rights and associated issues. Some experiment gone successful. It could be about some event, some occasion, meetings etc.
  6. Legal battles :  You could share your journey in fighting the legal battle. Some hard lessons that you learned and would like to share with others.

This is just a suggestive / indicative list. Should you have any other thoughts you are welcome to share with us. May be, it could be developed further and made into something interesting, educative and socially relevant work.

Communication is the key to get yourself heard. That is why we are open to all forms of communications. One could contribute in written words, audios, videos or a combination of these methods of communication.

Just drop us an email editor@EqualityForMen.org

Advertisements

Equality for Men – The startup story

It was somewhere before the International Men’s Day, 2014 that the idea of starting a web portal for news & views in the Men’s rights space germinated. The search was domain names got settled on this domain name and it was acquired. Prior to us this domain name was held by someone who did not build upon it.

Some content hosting was done but the idea did not move much. Incidentally, the domain name expired after one year.  Google searches on our name did not show any result by then. Meaning thereby, it was an uncharted territory for now.  Coupled with the fact that the idea within was refusing to die. As a result, sometimes later in Jan 2016 the domain was again acquired with a fresh resolve.

The most interesting fact is that, in October 2018, when this post is being written, Google searches on our domain name still remain blank. That leaves us with the thought the reporting on Men’s rights and associated issues is not widely available. In the age when the world is agog with the chants of #GenderEquality the Men’s side of the story is not finding its rightful space. Discrimination, inequality and unjust behavior against men is not even talked about. We find this a distorted situation. A situation that needs to be addressed. That leaves us with stronger resolve to move ahead on this path.

As we embark upon our journey to document, present and represent the story of Men, we look forward to your feedback to make our work more meaningful.  Do send your bouquets and brickbats to editor@EqualityForMen.org

****

PS. : Till very recently a search on google even with our name resulted in EqualityForWomen

Photos of #PindDaan @ Nashik by Vaastav Foundation on 07 Oct 2018

Vaastav Foundation of Mumbai organised a #PindDaan of toxic feminism at the holy city of Nashik at Ram Ghat situated on the banks of river Godavari.

 

Videos of #PindDaan @ Nashik by Vaastav Foundation

In the religious mythology of Hinduism, PindDaan is the last rite of the dead. It is done for the salvation of the deceased soul. Pitru Paksha (Sanskrit) : पितृ पक्ष), also spelt as Pitri paksha, Pitr Paksha (literally “fortnight of the ancestors”) is a 16–lunar day period in Hindu Calendar when Hindus pay homage to their ancestors (Pitrs), especially through food offerings.

It was during the Pitra Paksha of 2018, that Vaastav Foundation of Mumbai organised a #PindDaan of toxic feminism at the holy city of Nashik (Maharasthra, India) at Ram Ghat situated on the banks of river Godavari. The event was organized on Sunday the 07 October 2018.

Watch Amit Deshpande, President Vaastav Foundation, Mumbai explain about the PindDaan in Marathi

 

Watch Gaurav Satle explain about PindDaan in Hindi.

 

Watch Chetan and his team performing PindDaan of toxic feminism.

 

Watch Swapnil Talekar explain the purpose of PindDaan.

Watch Chetan and his team raising awareness on Men’s rights.

 

Videos courtesy: Vaastav Foundation, Mumbai.

Amit Despande Interview on RedFm 08 Oct 2018

Vaastav Foundation of Mumbai organised a #PindDaan of toxic feminism at the holy city of Nashik (Maharasthra, India) at Ram Ghat situated on the banks of river Godavari. The event was organized on 07 October 2018.

RedFm broadcast an interview of Amit Deshpande, the President of Vaastav Foundation  08 Oct 2018.

Listen to this interview to understand the purpose and need of this #PindDaan activity in Men’s Rights space.

Listen to the interview on Sound Cloud. Please feel free to share it.

 

दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले अब सावधान!

http://khabar.ibnlive.com/news/desh/97082.html 

दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले अब सावधान!

Posted on: March 03, 2011 03:56 AM IST | Updated on: March 03, 2011 03:56 AM IST

नई दिल्ली। दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले हो अब सावधान हो जाएं, अगर अब आपने झूठे दावे किए तो आयकर विभाग आपके खिलाफ कार्रवाई कर सकता है। जी हां, ऐसे ही एक मामले में आयकर विभाग ने वसूली के लिए एक ऐसे आदमी को नोटिस जारी किया है। इस आदमी ने अपने दामाद के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया था। जांच में आयकर विभाग ने पाया कि उसने जितना खर्च करने का दावा किया है, वो उसकी घोषित आय से काफी ज्यादा है।

दरअसल शादी के तीन साल बाद ही शोनी कपूर के खिलाफ उनकी पत्नी ने दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज करा दिया। उनकी पत्नी के पिता ने आरोप लगाया कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी में 13 लाख रुपए खर्च किए थे, जो उन्हें वापस दिलाए जाएं। शोनी कपूर ने साल 2008 में आयकर विभाग के पास शिकायत की कि उनके ससुर की आय इतनी थी ही नहीं कि वो शादी में 13 लाख रुपए खर्च कर सकें। करीब तीन साल के लंबे इंतजार के बाद अब जाकर आयकर विभाग ने उनके ससुर को नोटिस जारी कर दो लाख 21 हजार रुपये जमा कराने को कहा है। साथ ही निर्देश जारी किया है कि क्यों ना उनसे जुर्माना वसूलने के लिए कार्रवाई शुरू की जाए।

दरअसल शोनी कपूर को दहेज प्रताड़ना के आरोप में जेल और पुलिस हिरासत जाना पड़ा। नौकरी छूट गई। परिवार शहर छोड़कर दिल्ली आ गया। इतनी परेशानी भुगतने के बाद उन्होंने इस लड़ाई को सही अंजाम तक पहुंचाने की ठान ली। अभी उनके खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस लंबित है। लेकिन उनकी माने तो पहली जीत उन्हें मिल गई है।

साल 2009 में देश भर में दहेज प्रताड़ना के करीब 90 हजार मुकदमे दर्ज हुए। पिछले कुछ सालों पर नजर डालें तो हर साल दहेज प्रताड़ना के मामलों में करीब 11 फीसदी की बढ़ोतरी हो जाती है। दर्ज हुए मुकदमों में से महज दो फीसदी में ही सजा होती है। यानी 98 फीसदी मामलों में या तो समझौता हो जाता है या फिर वो फर्जी पाए जाते हैं। साफ है कि समय आ चुका है कि इस कानून में बदलाव कर समाज में बदलाव लाया जाए।

आप इस लड़के को बचाना चाहेंगे, या इसकी आत्महत्या के बाद एक और कैंडल मार्च निकालना चाहेंगे?

आज हमारा देश एक ऐसी स्थिति से गुजर रहा है जहां एक तरफ तो महिला को, पत्नि, मित्र, प्रेमिका, लिव-इन पार्टनर, यहाँ तक कि एक वैश्या के रूप में भी सशक्ति किया जा रहा है और दूसरी तरफ एक माँ, बहन, भाभी, ताई, चाची, बूआ आदि के रूप में उन्हें महिला ही नहीं माना जाता।

जब यहाँ छद्म महिला सशक्तिकरण इस कदर सर चढ़ कर बोल रहा है कि नारिवादी शक्तियों के दबाव में सरकार बिना कुछ सोचे समझे कानून बनाने पर आमादा है, तो यहाँ एक पुरुष का यह उम्मीद करना कि उसे भी न्याय मिल सकता है, बेमानी है, एक धोखा है।

एक लड़के ने एक लड़की से इस कदर प्यार किया कि अपना सबकुछ लुटा दिया, परन्तु उस लड़की ने इस लड़के का इस कदर शारीरिक, आर्थिक और मानसिक शोषण कर धोखा दिया कि उसे लगने लगा कि अब आत्महत्या करने के अलावा कोई रास्ता शेष नहीं…

View original post 151 more words

बलात्कार कानून बना अवैध धन उगाही का धन्दा !

HH Lko 12 Mar 2016

भारत देश में बलात्कार कानून अवैध धन उगाही का धन्दा बन गया है । लखनऊ के हिन्दुस्तान अखबार में 12.03.2016 को प्रकाशित यह खबर पढि़ये । महिला चाहे जितनी बार भी फ़र्जी मुकदमा लिखाये, चाहे जितने निर्दोष लोगों को फ़साये और अवैध  धन उगाही करे । पूरी कानून व्यवस्था और न्याय व्यवस्था इस वसूली के धन्दे में उसके साथ खड़ी नजर आती है । ऐसी महिलाओं को सजा देने की मांग पर बड़े – बड़े भाग खड़े होते हैं । इसी कारण महिला कानूनों का खुलेआम दुरुपयोग हो रहा है और देश गर्त में जा रहा है ।

क्या पुरूष ऐसा करके सुरक्षित रह सकते हैं ?

HH Lko 07 March 2016अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर (07.03.2016 को) लखनऊ में प्रकाशित यह खबर देखिये । सवाल यह नहीं है एक नवविवाहिता भाग गयी । सवाल यह है कि यही काम अगर किसी पुरुष ने किया होता तो उसका क्या हष्र होता ?

सबसे पहले तो दहेज और घरेलू हिन्सा के पूरे पैकेज मुकदमें दर्ज होते । उस पुरुष (पति) के सारे खानदान को जेल होती । समाज में बदनामी और लम्बी सालों – साल चलने वाली अदालती झेलनी पड़ती । गुजारा भत्ता आदि देने में वो फ़कीर बन सकता था । सारे देश के अखबार और खबरिया चैनल उसके पीछे पड़ जाते और उस पुरुष को वहशी, दरिन्दा आदि उपमाओं से सुशोभित कर देते ।

पर चूंकि यह पुनीत कार्य एक देवी जी ने किया है, उन्हे कोई सजा तो होना दूर की बात है वरन इस पर कोई कार्यवाही भी नहीं होगी । जय हो भारत की कानून और व्यवस्था । अन्धेर नगरी – चौपट राजा !