पुरुषों के विरुद्ध अपराध / Crime Against Men

पुरुषों के विरुद्ध अपराध 

पुरुषों प्रति अपराध प्रचुर मात्रा में समाज में चारों ओर मौजूद है पर विडम्बना यह है कि इसके बारे में कोई बात नहीं करना चाहता । सही कहें तो सभी जिम्मेदार लोग इस बारे में बात करने से बचतें हैं । महिला सशक्तिकरण के लिये बने कठोर और एक तरफा कानूनों के दुरुपयोग पर सवार होकर जिस छ्द्म महिला सशक्तिकरण की जो बयार चल रही है उसके दुषपरिणाम समाज में दिखायी पड़ने लगे हैं । हर तरफ पुरुषों का आर्थिक, सामाजिक और न्यायिक शोषण तो खुल कर हो ही रहा है  और ’परिवार’ नामक जिस संस्था पर भारत को नाज़ हुआ करता था वह आज खतरे में है । रुपये एंठने की नित नई जुगत कानूनों के दांव – पेंच में खोजी जा रही है । जहाँ समाज में फर्जी बलात्कार के मुकदमें, कार्यस्थल पर यौन शोषण के मुकदमें बढ़ रहे हैं वही घरों के अन्दर प्रमुखता से इसमें फर्जी और झूठे दहेज, घरेलू हिन्सा और अप्राकृतिक यौन सम्बन्ध बनाने के अरोप लगाकर पुरुषों को धमकाया जा रहा है कि अमुख रकम दे दो और मुकदमों से पिण्ड छुड़ा लो । एक ओर तो कानूनों का दुरुपयोग हो रहा है और जिम्मेदार लोग इस पर बात करने से भी कतरा रहे हैं वही दूसरी ओर ज्यादा दु:ख देने वाली बात यह है कि जो महिलाएं और संगठन इन कानूनों का दुरुपयोग कर धन एंठने का धन्दा चला रहे हैं उन्हे इन फर्जी मुकदमों पर कोई सजा का प्राविधान नहीं होने के कारण यह छद्म सशक्तिकरण नित्य नये रूप में दिखाई देता है ।

Crime Against Men

Crimes against men are seen, heard and felt, but ironically never talked about. More than double the number of females commit suicide every year in India. The major cause highlighted by National Crime Records Bureau is matrimonial problems. Suicide is a #CrimeAgainstMen  instigated by the insensitivity  to the pain a man suffers. This unbridled wave of women empowerment is actually a sense of false empowerment which is killing men – both inside and outside the home. Today in India, every man is exposed to fake cases of sexual harassment at work place, rape in the society and dowry demand (498a) & domestic violence inside the house. Actually, a man is not safe at any place. Many times these fake cases are motivated to extort money by creating a fear syndrome in the minds of the man who is falsely accused. The best thing about Indian law is that there is no punishment to any women for filing fake cases. This way the false-sense of women empowerment travels down to Lakhs of people. Eventually it destroys the institution of marriage which had been a precious preserve of our customs and traditions.

One comment

  1. If we find this type of wrong case against women. Women also have rite to get heavy punishment, because Crime is crime, & crime can do any person in this universe. That can be any girl, lady or man. And, hard punishment should be for everyone against criminal or crime…….Thanks

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s