Legal Terrorism

दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले अब सावधान!

http://khabar.ibnlive.com/news/desh/97082.html 

दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले अब सावधान!

Posted on: March 03, 2011 03:56 AM IST | Updated on: March 03, 2011 03:56 AM IST

नई दिल्ली। दहेज प्रताड़ना के झूठे मामले दर्ज कराने वाले हो अब सावधान हो जाएं, अगर अब आपने झूठे दावे किए तो आयकर विभाग आपके खिलाफ कार्रवाई कर सकता है। जी हां, ऐसे ही एक मामले में आयकर विभाग ने वसूली के लिए एक ऐसे आदमी को नोटिस जारी किया है। इस आदमी ने अपने दामाद के खिलाफ दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज कराया था। जांच में आयकर विभाग ने पाया कि उसने जितना खर्च करने का दावा किया है, वो उसकी घोषित आय से काफी ज्यादा है।

दरअसल शादी के तीन साल बाद ही शोनी कपूर के खिलाफ उनकी पत्नी ने दहेज प्रताड़ना का केस दर्ज करा दिया। उनकी पत्नी के पिता ने आरोप लगाया कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी में 13 लाख रुपए खर्च किए थे, जो उन्हें वापस दिलाए जाएं। शोनी कपूर ने साल 2008 में आयकर विभाग के पास शिकायत की कि उनके ससुर की आय इतनी थी ही नहीं कि वो शादी में 13 लाख रुपए खर्च कर सकें। करीब तीन साल के लंबे इंतजार के बाद अब जाकर आयकर विभाग ने उनके ससुर को नोटिस जारी कर दो लाख 21 हजार रुपये जमा कराने को कहा है। साथ ही निर्देश जारी किया है कि क्यों ना उनसे जुर्माना वसूलने के लिए कार्रवाई शुरू की जाए।

दरअसल शोनी कपूर को दहेज प्रताड़ना के आरोप में जेल और पुलिस हिरासत जाना पड़ा। नौकरी छूट गई। परिवार शहर छोड़कर दिल्ली आ गया। इतनी परेशानी भुगतने के बाद उन्होंने इस लड़ाई को सही अंजाम तक पहुंचाने की ठान ली। अभी उनके खिलाफ दहेज प्रताड़ना का केस लंबित है। लेकिन उनकी माने तो पहली जीत उन्हें मिल गई है।

साल 2009 में देश भर में दहेज प्रताड़ना के करीब 90 हजार मुकदमे दर्ज हुए। पिछले कुछ सालों पर नजर डालें तो हर साल दहेज प्रताड़ना के मामलों में करीब 11 फीसदी की बढ़ोतरी हो जाती है। दर्ज हुए मुकदमों में से महज दो फीसदी में ही सजा होती है। यानी 98 फीसदी मामलों में या तो समझौता हो जाता है या फिर वो फर्जी पाए जाते हैं। साफ है कि समय आ चुका है कि इस कानून में बदलाव कर समाज में बदलाव लाया जाए।

Advertisements

बलात्कार कानून बना अवैध धन उगाही का धन्दा !

HH Lko 12 Mar 2016

भारत देश में बलात्कार कानून अवैध धन उगाही का धन्दा बन गया है । लखनऊ के हिन्दुस्तान अखबार में 12.03.2016 को प्रकाशित यह खबर पढि़ये । महिला चाहे जितनी बार भी फ़र्जी मुकदमा लिखाये, चाहे जितने निर्दोष लोगों को फ़साये और अवैध  धन उगाही करे । पूरी कानून व्यवस्था और न्याय व्यवस्था इस वसूली के धन्दे में उसके साथ खड़ी नजर आती है । ऐसी महिलाओं को सजा देने की मांग पर बड़े – बड़े भाग खड़े होते हैं । इसी कारण महिला कानूनों का खुलेआम दुरुपयोग हो रहा है और देश गर्त में जा रहा है ।

क्या पुरूष ऐसा करके सुरक्षित रह सकते हैं ?

HH Lko 07 March 2016अन्तराष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व संध्या पर (07.03.2016 को) लखनऊ में प्रकाशित यह खबर देखिये । सवाल यह नहीं है एक नवविवाहिता भाग गयी । सवाल यह है कि यही काम अगर किसी पुरुष ने किया होता तो उसका क्या हष्र होता ?

सबसे पहले तो दहेज और घरेलू हिन्सा के पूरे पैकेज मुकदमें दर्ज होते । उस पुरुष (पति) के सारे खानदान को जेल होती । समाज में बदनामी और लम्बी सालों – साल चलने वाली अदालती झेलनी पड़ती । गुजारा भत्ता आदि देने में वो फ़कीर बन सकता था । सारे देश के अखबार और खबरिया चैनल उसके पीछे पड़ जाते और उस पुरुष को वहशी, दरिन्दा आदि उपमाओं से सुशोभित कर देते ।

पर चूंकि यह पुनीत कार्य एक देवी जी ने किया है, उन्हे कोई सजा तो होना दूर की बात है वरन इस पर कोई कार्यवाही भी नहीं होगी । जय हो भारत की कानून और व्यवस्था । अन्धेर नगरी – चौपट राजा !

पुरानी मांगो को दहेज के लिये हत्या नहीं माना जायेगा – सुप्रीम कोर्ट

दैनिक हिन्दुस्तान में दिनांक 17 फ़रवरी 2016 को छपी यह खबर अपनी चुगली खुद कर रही है । सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसला दिया है कि हर केस जहां लड़की की मौत हो गयी हो उसे दहेज के लिये हत्या नहीं माना जायेगा । जिस प्रकार महिला कानूनों का खुले आम दुरुपयोग हो रहा है, उसके कारण यह एक महत्वपूर्ण फ़ैसला है । हत्या, के ठीक पहले की गयी दहेज की मांग को ही ’दहेज – हत्या’ (भारतीय दण्ड विधान की धारा 304बी) का कारण माना जायेगा ।

 HH LKo 17 Feb 2016

महिला के हाथों एक पुरूष मरा है, जशन मनाओ!

फ़िर चहका फ़र्जी महिला उत्थान, जाती है तो जाये, पुरुष की जान ।
 
आओ जशन मनाएं । एक पुरुष मरा है, वो भी महिला कानूनों के दुरुपयोग के कारण । फ़र्जी दहेज के मुकदमें की धमकी के कारण आत्महत्या करने वाले इस पुरूष की मौत की ’रिपोर्ट’ भी यदि पुलिस दर्ज कर ले तो बड़ी बात होगी । खबर – दैनिक जागरण, कानपुर के हवाले से – दिनांक 17 फ़रवरी 2016 को प्रकाशित |
Dainik Jagran Kanpur 17 Feb 2016

अब कार्यक्षेत्र में भी महिला कानूनों का दुरुपयोग

किसी महिला को काम पर रखने से पहले दस बार सोंचे । किसी दिन छुट्टी न देने पर या वेतन न बढ़ाने पर नियोक्ता पर महिला उतपीड़न का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया ज सकता है । यकीन न हो तो हिन्दुस्तान (हिन्दी), लखनऊ में छपी इस खबर को देखिये ।  अगर किसी महिला को नौकरी पर रखा जाता है तो किसी दिन छुट्टी न मिलने पर या वेतन नहीं बढ़ाये जाने पर नियोक्ता के उपर महिला उप्त्पीड़न और यौन शोषण के सोचें – समझे  फर्जी मुकदमें दर्ज हो सकतें हैं ।

किसी महिला को काम पर रखने से पहले दस बार सोंचे । किसी दिन छुट्टी न देने पर या वेतन न बढ़ाने पर नियोक्ता पर महिला उतपीड़न का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया ज सकता है ।

लड़कियां OLX पर बेच रही ब्वायफ्रेन्ड !

नव भारत टाइम्स, लखनऊ, 12.11.2014

नव भारत टाइम्स, लखनऊ, 12.11.2014

अगर यही काम किसी लड़के ने किया होता हो सभी महिल संगठन सड़कों पर उतर आते कि लड़कियां बेची जा रही हैं । तमाम धरना – प्रदर्शन आदि शुरु हो जाते ।और हमारे देश की कर्मठ पुलिस उस लड़के को, और उसके दिवंगत पुरखों तक पर मुकदमा दर्ज हो गया होता । पर यही अपराध जब किसी महिला ने किया तो उसके साथ उदार बर्ताव क्यों ? #EqualPunishmentForEqualCrime की बात बराबरी के झण्डाबदरों के गले क्यों नहीं उतर रझीं>

परन्तु पुरुषों को बेचा जाना क्या कानूनन अपराध नहीं है ? इस पर कोई कार्यवाही क्यों नहीं हो रही ? लड़कों की अस्मिता का कोई मोल नहीं है ।

शादी से मुक्त करने की कीमत करोड़ों में लेने का फलता – फूलता व्यापार

अब तो महिला वकीलों ने भी माना की दहेज कानूनों और महिला कानूनों की धमकी देकर तालाक के लिये ज्यादा रकम वसूलने का व्यवसाय खूब फल-फूल रहा है । अब बात दो – तीन लाख की नहीं रही । पचास लाख और सौदे करोड़ों रुपये में भी पटाने की मार्केटिंग बकायाद कानूनों के दुरुपयोग की धमकी के साथ की जा रही है । कुछ दिनों में एम.बी.ए. की एक खेप इस काम के लिये विषेशरूप से बाजार में आ जाये तो कोई अजरज नहीं होगा । देखिये टाइम्स आफ इण्डिया की यह खबर ।

http://timesofindia.indiatimes.com/city/bhopal/Pay-for-divorce-Women-forcing-hubbies-to-shell-out-big-bucks-for-freedom/articleshow/44472875.cms

BHOPAL: Some months ago, Divyendu, 28 (name changed) was struggling with his unsuccessful marriage and wanted a divorce. Now, he faces a dowry harassment charge and an extremely difficult task of arranging Rs 15 lakh. His wife has threatened to ruin his life and the only way he can save himself is by arranging the huge amount for divorce. Rs 75 lakh was the price another guy had to pay to his wife to free himself from the marriage ties and the relationship that was left only for namesake.

These are some of the many cases that have come to family court for hearing where the males were being forced to pay a huge amount only to get divorce.

Atul, 30 (name changed), an engineer by profession could take divorce from his fitness trainer wife only after giving Rs 15 lakh along with a pact of life-long maintenance of child. She said yes for the divorce only after taking the money. In another case, the girl has asked for Rs 1 crore in lieu of divorce. Case is still going on in the family court as it is nearly impossible for the boy’s side to pay such a huge amount.

“This has become a sort of trend. Earlier the daughter in laws of medium-class family would ask for Rs 2 lakh to 3 lakh at the time of separation but now they demand nothing less than Rs 25 to 50 lakh. Some even go to the extent of threatening husbands of putting cases of domestic violence and dowry for extracting money. Boys are actually blackmailed nowadays,” said Sangeeta Moharir, a lawyer at Bhopal district court.

“In genuine cases, the girl herself wants to get free as soon as possible so money hardly matters for them. But in cases where extracting money is the sole purpose, girls demand huge compensation from the boys as a price of their freedom,” Sangeeta added.

“In around 50% of the cases, the boy agrees to her demands as he is left with not much choice. Any guy would prefer paying some money than facing some more criminal cases against him. Girls often misuse this situation and laws to their advantage and extract maximum money from husbands, “said Noorunnisa Khan, a senior counsellor at family court in Bhopal.